top of page
  • dhadakkamgarunion0

*ABHIJEET RANE (AR)*

*ABHIJEET RANE {AR}* बस अब चंद दिन और: चुनाव आयोग ने एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे के गुटों को नोटिस जारी कर उनसे बहुमत साबित करने के लिए दस्तावेजी सबूत मांगे हैं। 8 अगस्त को इस मामले की सुनवाई होगी और उसके बाद पता चल जाएगा कि असली शिवसेना पर कौन काबिज रहेगा, शिंदे गुट या फिर उद्धव ठाकरे गुट!!!! www.abhijeetrane.in

*ABHIJEET RANE (AR)* असली शिवसेना किसकी है इसका फैसला तो केंद्रीय चुनाव आयोग को करना है। लेकिन एकनाथ शिंदे ने विधायक और सांसदों की संख्या के आधार पर दावा किया है कि पार्टी अब उनकी है। शिवसेना के 55 में से 40 विधायक एकनाथ शिंदे के साथ हैं। वहीं, 12 सांसद भी शिंदे के पक्ष में हैं। उसके बाद ही लोकसभा स्पीकर द्वारा राहुल शेवाले को लोकसभा में पार्टी का नेता घोषित किया गया था। वहीं, दूसरी तरफ उद्धव ठाकरे के समर्थन में शिवसेना की कार्यकारिणी है। जिसके आधार पर वो अपना दावा पेश कर रहे हैं। www.abhijeetrane.in *ABHIJEET RANE (AR)* शिंदे गुट कोई कम नहीं है। चाहे समझाने में या फिर चुनौती, चेतावनी या धमकी देने में। शिंदे गुट ने शिवसेना को चुनौती देते हुए कहा कि अगर हमारे रास्ते में आये तो महंगा पड़ेगा। उन्होंने शिवसेना के युवा नेता आदित्य ठाकरे को भी ऊल-जलूल बयानबाजी न करने की सलाह दी है। ये बात सही भी है। अगर शिंदे गुट उद्धव ठाकरे के खिलाफ फालतू बयानबाजी नहीं कर रहा है तो आदित्य ठाकरे को भी कंट्रोल करना चाहिए। www.abhijeetrane.in *ABHIJEET RANE (AR)* अगर राज्य की राजनीति को ध्यान से देखें तो पता चलेगा कि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के गुट ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे गुट के सामने कई मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। हर जगह शिंदे गुट उद्धव ठाकरे को कड़ी टक्कर दे रहा है। यह गली से लेकर दिल्ली तक विद्रोह करने और उनके रैंक में शामिल होने की दौड़ की तरह है। उन्हें रोकने के लिए शिवसेना द्वारा राजनीतिक और कानूनी प्रक्रिया शुरू की गई है।

*ABHIJEET RANE (AR)* राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू की ऐतिहासिक जीत में केरल से उन्हें मिले एक वोट का भी योगदान है। हालांकि, इस वोट के कारण केरल के राजनीतिक खेमों में खलबली मची है। इसकी वजह ये है कि 140 सदस्यीय राज्य विधानसभा में भाजपा का कोई विधायक नहीं है। देश के कई राज्यों में मुर्मू के पक्ष में क्रॉस वोटिंग के बीच केरल से मिले इस अनपेक्षित वोट को लेकर भाजपा ने खुशी जताई है। इसे कहते हैं सकारात्मक प्रभाव।

4 views0 comments

Comentarios


bottom of page