top of page
  • dhadakkamgarunion0

*ABHIJEET RANE (AR)*

*ABHIJEET RANE (AR)*

81वर्ष के शरद पवार के लिए राष्ट्रपति बनना उनके राजनीतिक जीवन की सर्वोच्च उपलब्धि होगी, फिर भी एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने से इनकार कर दिया तो इसका अर्थ एकदम साफ है- विपक्ष अभी बिखरा हुआ है। कमजोर है। विपक्ष हार सकता है। इसलिए विपक्ष को आत्म परीक्षा करनी चाहिए।



*ABHIJEET RANE (AR)*

शरद पवार के इनकार के बाद राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए संयुक्त उम्मीदवार पेश करने की विपक्ष की कवायद के बीच कुछ नेताओं ने संभावित विकल्प के तौर पर पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी से संपर्क किया है। गांधी 2017 में उपराष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार थे। हालांकि, वह चुनाव में एम वेंकैया नायडू से हार गए थे। क्या वे इस बार फिर हारना चाहते हैं?

*ABHIJEET RANE (AR)*

उप मुख्यमंत्री अजीत पवार को देहु के कार्यक्रम में बोलने का मौका न दिए जाने से एनसीपी वाले बहुत नाराज हैं। एनसीपी के एक नेता ने तो इसे "महाराष्ट्र का अपमान" बताया है। लेकिन यह महाराष्ट्र का अपमान कैसे हो गया? इतना समय न रहा होगा। बस इतनी सी बात का बतंगड़ बनाने से क्या लाभ?

*ABHIJEET RANE (AR)*

हकीकत में आम जनता मंहगाई से बेहद परेशान है। चारो तरफ हाहाकार मचा हुआ है। सरकारी आंकड़े भी कहते हैं कि पिछले 30 साल में फिलहाल सबसे ज्यादा मंहगाई है। थोक मंहगाई दर तो 15.88 फीसदी है। सरकार को इस पर लगाम लगानी चाहिए।

2 views0 comments

Comentarios


bottom of page