top of page
  • dhadakkamgarunion0

desk of abhijeet rane

*ABHIJEET RANE (AR)*

समाजमाध्यमांत मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे व शिवसेना पक्षप्रमुख उध्दव ठाकरे ह्यांच्यात दरी रूंदावणाऱ्या पोस्टचा सुकाळ आलायं.त्याला उध्दव सेना व शिंदे सेनेची वक्तव्यही जबाबदार आहेत.पण तरीही येणाऱ्या पोस्टवरून त्यांच्यातून विस्तवही जाऊ शकत नाही हेच पटतयं.


*ABHIJEET RANE (AR)*

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे व पक्षप्रमुख उध्दव ठाकरे ह्यांच्यात मनोमिलनाची शक्यता मावळली तरीही भाजप कार्यकर्ते त्यांच्यातील आगीत तेल ओतताहेत. भाजप नेते त्याकडे दुर्लक्ष करतात. भविष्यात भाजपला ना बजेंगा बांस, ना बजेगी बांसुरी असा प्रयोग करायचा आहे का?

*ABHIJEET RANE (AR)*

सुप्रिया सुळे ह्या आक्रमक झाल्या आहेत. राष्ट्रवादीच्या कार्यक्रमा़त त्यांनी भाजपच्या

१०६ आमदारांपैकी ५० तर पूर्वीचे राष्ट्रवादीचे असल्याचा दावा केला.त्यामुळे सुप्रियांना नेमके काय सांगायचे आहे. भाजपातील ते ५० जण कु़ंपणावर आहेत का? राष्ट्रवादीत उडी मारायला.


 

*ABHIJEET RANE (AR)*

मुंबई मनपाच्या माजी नगरसेविका शीतल म्हात्रे मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे़ंच्या गटांत दाखल झाल्या.त्यामुळे मुंबईतही शिंदें गटाचा प्रभाव जाणवला. त्यावर शिवसेनेत केंद्रींय मंत्री नारायण राणेंचा हात शिवसेनेत कुठवर पोचलायं? याचा शोध घेताहेत पण त्यांना तोही मिळत नाही.

 

*ABHIJEET RANE (AR)*

राष्ट्रपतीपदाच्या निवडणुकीसाठी शिवसेनेने द्रौपदी मूर्मूंनां पाठिंबा दिल्यानंतर दुपारपर्यंत काँग्रेसला त्यात वावगे वाटत नव्हते. परंतु संध्याकाळी अचानक काँग्रेस नेते बाळासाहेब थोरांतांनी शिवसेनेच्या निर्णयाबद्दल नाराजी व्यक्त करीत अनाकलनीय निर्णय अशी टिप्पणी केली.

 

*ABHIJEET RANE (AR)*

आश्विनी भिडेंकडे मुंबई मेट्रोचा अतिरिक्त कार्यभार सोपवण्यात आला.ठाकरे सरकारच्या काळात ह्याच भिडेबाईंची मेट्रोपदावरून उचलबांगडी झाली होती. ठाकरे सरकार पायउतार होताच मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदेसेना सरकारने पुन्हा ठाकरेंना धक्का दिलायं.


 

*ABHIJEET RANE (AR)*

काँग्रेसचे नाना पटोलेंचे बरळणे सुरूच असते. ओबीसी आरक्षणावरून त्यांनी मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदेंना लक्ष्य केलं.हे सरकार कासवगतीने काम करते असे नाना बकले.आधीच शिंदे मंत्रिमंडळाचा विस्तार नाही. मग नानांची घिसाडघाई कशासाठी?

 

*ABHIJEET RANE (AR)*

यह खुशी की बात है कि महाराष्ट्र में जब भी विभागों का बंटवारा होगा तो उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को गृह विभाग की बजाय वित्त विभाग या फिर सिंचाई या ऐसा अन्य बुनियादी ढांचा विभाग मिल सकता है जो भाजपा को मदद कर सकता है। इससे अगले ढाई सालों में भाजपा यह दिखा सकती है कि राज्य में काम किस स्तर पर हुआ है।

 

*ABHIJEET RANE (AR)*

पासा पलट गया है। जैसे ही मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर एक अहम बयान दिया कि वे राष्ट्रपति चुनाव के लिए द्रौपदी मुर्मू का पूरा समर्थन करेंगे। वैसे ही शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी मुर्मू को समर्थन देने का एलान कर दिया। ये सब राजनीति का कमाल है।

 

*ABHIJEET RANE (AR)*

लगता है कि शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे पर संजय राउत की चली नहीं। अगर किसी की चली तो शिवसेना के 18 सांसदों में से 13 की चली। जिन्होंने ठाकरे से राष्ट्रपति पद के लिए मुर्मू का समर्थन करने और भाजपा और पार्टी के एकनाथ शिंदे गुट के साथ संभावित सुलह का दरवाजा खोलने का अनुरोध किया था। एक ऐसी पार्टी में जहां ठाकरे से शायद ही कभी सवाल किया जाता है, शिवसेना अध्यक्ष को पिछले दिनों मिला एक सांसद का पत्र स्पष्ट संकेत था कि उनका प्रभाव घट रहा है और पार्टी के सदस्य अब खड़े होने और अपने मन की बात कहने से नहीं डरते हैं।

 

*ABHIJEET RANE (AR)*

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे द्वारा राष्ट्रपति पद के लिए द्रोपदी मुर्मू का समर्थन करना ठाकरे की कमजोरी भी दर्शाता है। हाल के विद्रोह के बाद, ठाकरे वैसे भी एक पतली रेखा पर चल रहे हैं। और अपने सांसदों की भावनाओं की अवहेलना करने का कोई भी प्रयास दरार को व्यापक रूप से उजागर ही करेगा। इसे कहते हैं कि देर आयद दुरुस्त आयद।

 

*ABHIJEET RANE (AR)*

शिंदे सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार अभी थोड़े समय के लिए टल गया है। लेकिन यह शिंदे खेमे और उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुट के बीच चल रही कानूनी लड़ाई के कारण नहीं हुआ है बल्कि राष्ट्रपति चुनाव की वजह से क्योंकि विधायक राष्ट्रपति चुनाव में व्यस्त होंगे…तो शपथ ग्रहण करने का समय किसके पास होगा? अब जो भी होगा 18 के बाद होगा।


2 views0 comments

Komentáře


bottom of page